3धात्री (फोस्टर) देख-रेख
  • pm

    "हम सभी की जरूरत है हमारे दिमाग को बदलना है हमें लोगों के दिल को एकजुट करने की आवश्यकता है। "

  • blue

    क्या तुम्हें पता था? दहेज निषेध अधिनियम, 1 9 61 के तहत दहेज देने, लेने, मांगने या विज्ञापन भी सभी अवैध हैं

धात्री (फोस्टर) देख-रेख एक ऐसी व्यवस्था है जिसके द्वारा बच्चे आमतौर पर अस्थायी आधार पर गैर पारिवारिक सदस्यों के साथ रहते हैं। बच्चे को अधिमान्यत: बच्चे से जुडे परिवार अथवा पारिवारिक करीबी मित्र जिनसे बच्चा परिचित हो, के साथ रखा जाता है और जब ऐसा कोई विकल्प उपलब्ध न हो और न ही बच्चे की देख-रेख के लिए कोई इच्छुक हो तो बच्चे को धात्री (फोस्टर) देख-रेख में रखा जाता है।

बच्चे को धात्री (फोस्टर) देख-रेख में रखते समय तरजीह उन परिवारों को दी जाती है जो समान संस्कृति, जनजाति और /अथवा समाज के हों। धात्री (फोस्टर) देख-रेख बच्चे की जरूरत के आधार पर अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक हो सकती है। ऐसी स्थिति जिसमें धात्री (फोस्टर) देख-रेख अल्पकालिक दी जाएगी और सीडब्ल्यूसी के समक्ष प्रस्तुत व्यक्तिगत मामले के उनके आकलन पर आधारित अवधि निर्भर करेगी। दूसरी ओर दीर्घकालिक धात्री (फोस्टर) देख-रेख में बच्चे को समिति द्वारा एक वर्ष से अधिक अवधि के लिए रखा जाता है।

दिशा-निर्देश