सरलीकृत दत्‍तकग्रहण प्रक्रिया
  • pm

    "हम सभी की जरूरत है हमारे दिमाग को बदलना है हमें लोगों के दिल को एकजुट करने की आवश्यकता है। "

  • blue

    क्या तुम्हें पता था? दहेज निषेध अधिनियम, 1 9 61 के तहत दहेज देने, लेने, मांगने या विज्ञापन भी सभी अवैध हैं

चरण – 1 पंजीकरण :

भावी दत्‍तक माता-पिता को अपने निवास के समीप के दत्‍तकग्रहण एजेंसी में स्‍वयं को पंजीकृत करवाने की आवश्‍यकता होती है। मान्‍यता प्राप्‍त भारतीय प्‍लेसमेंटएजेंसी (आरआईपीए) तथा विशेष दत्‍तकग्रहणएजेंसी (एसएए) ऐसे प्राधिकरण हैं जो इस प्रकार के अनुरोध को पंजीकृत करने के लिए सशक्‍त होते हैं।

  • आरआईपीए या एसएए द्वारा अनुमोदित एजेंसी में पंजीकरण करवाएं। पंजीकरण फॉर्म को आवश्‍यक दस्‍तावेजों के साथ भरा जाना आवश्‍यक है।
  • फार्म के प्राप्‍त होने पर संबंधित प्राधिकरण दत्‍तक माता-पिता को पंजीकरण की रसीद देगा। पंजीकरण फॉर्म कारा (केंद्रीय दत्‍तकग्रहण संसाधन प्राधिकरण) द्वारा प्रदान की गई सुविधाकेमाध्‍यम से ऑनलाइन भरा जा सकता है।
  • पंजीकृत केंद्र से अन्‍य बालक देखरेख केंद्र से बच्‍चा अपनाने का भी प्रावधान है। इस प्रकार के मामले में, जिस स्‍थान पर आप बच्‍चे को गोद लेनाचाहते हैं उस स्‍थान को विनिर्दिष्‍ट करते हुए एसएए को आवेदन दिए जाने की आवश्‍यकता है।
  • आपके अनुरोध के प्रक्रियाबद्ध होने पर आपके नाम को उपर्युक्‍त केंद्र की प्रतीक्षा सूची में जोड़ दिया जाएगा।
  • किसी अन्‍य राज्‍य में दत्‍तकग्रहण के लिए भी इसी प्रकार की सुविधा मौजूद है। अगर आप ऐसा करना चाहते हैं तो आपको संबंधित राज्‍य की राज्‍य दत्‍तकग्रहण संसाधन एजेंसी (सारा)या दत्‍तकग्रहणसमन्‍वयएजेंसी(एसीए) से संपर्क करने और उन्‍हें पंजीकरण की रसीददेनेकी आवश्‍यकता होगी।

 

चरण – 2 पूर्व दत्‍तकग्रहण प्रक्रिया :

  • संबंधित प्राधिकरण बच्‍चे के दत्‍तकग्रहण में शामिल होने वाली सभी प्रक्रियाओं को आपको दिशा-निर्देशित करेंगे। आपको दत्‍तकग्रहण और पालन-पोषण पर अनुभवी परामर्शकों से परामर्श भी प्राप्‍त होगा। यह विशेष रूप से अविवाहितमाता-पिताओं या संतानहीन दम्‍पतियों के लिए मददगार होगा।

 

चरण – 3 दत्तकग्रहण प्रक्रिया :

  • इस प्रक्रियामें दो मुख्‍य कदम शामिल हैं।

 

प्रारंभिक कदम

  • पंजीकरण की तारीख से दो माह की अधिकतम अवधि के भीतर सक्षम सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा घरेलू जांच की जाएगी।
  • आपसे एक चिकित्‍सा जांच रिपोर्ट देने की अपेक्षा की जाएगी जो बच्‍चे के प्रस्‍ताव के समय एक वर्ष से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए।

 

बच्‍चा सौंपना

  • एसएए द्वारा एक दत्‍तकग्रहण समिति का गठन किया जाएगा जो भावी दत्‍तक माता-पिताकी पात्रता की जांच करेगीऔर उनके द्वारा दर्शायी गई मांगों से मेल खाते हुए बच्‍चे का पता लगाएगी।
  • समिति यह भी पता लगाएगी कि बच्‍चा गोद लिए जाने के लिए विधिक रूप से स्‍वतंत्र है या नहीं।
  • उपर्युक्‍त बच्‍चा मिलने पर, एसएए आपको केंद्र पर जाने और बच्‍चा देखने की अनुमति देगा। यदि आप चुने गए बच्‍चे को अपनाने के लिए तैयार हैं तो आपको एसएए द्वारा दी गई चिकित्‍सा जांच रिपोर्ट और बालक अध्‍ययन रिपोर्ट पर हस्‍ताक्षर करके अपनी स्‍वीकृति देनी होगी।
  • आपको एजेंसी को अपने स्‍थानीयसम्पर्कों की जानकारी देना जरूरी होगा और प्राधिकरणों तथा न्‍यायालयों द्वारा निर्धारित सभी नियमों का पालन करना भी जरूरी होगा।
  • पूर्ण रूप से दत्‍तकग्रहण कर लिए जाने से पूर्व, बच्‍चे को दत्‍तकग्रहण माता-पिता के साथ पोषण देखरेख में रखा जा सकता है।
  • शासकीय प्राधिकरण द्वारा बच्‍चे को अपनाने की आपकी समर्थता के संतुष्‍ट होने के बाद, बच्‍चे को कानूनी रूप से आपकी देखभाल के लिए दे दिया जाएगा और आप बच्‍चे के नए माता-पिता बन जाएंगे।