मुझे दत्‍तकग्रहण के बारे में कुछ प्रश्‍न पूछने हैं।
  • pm

    "हम सभी की जरूरत है हमारे दिमाग को बदलना है हमें लोगों के दिल को एकजुट करने की आवश्यकता है। "

  • blue

    क्या तुम्हें पता था? दहेज निषेध अधिनियम, 1 9 61 के तहत दहेज देने, लेने, मांगने या विज्ञापन भी सभी अवैध हैं

1. दत्तकग्रहण क्या होता है?

दत्तकग्रहण से ऐसी प्रक्रिया अभिप्रेत है जिसके माध्यम से दत्तक बालक को उसके जैविक माता-पिता से स्थाई रूप में अलग कर दिया जाता है और वह अपने दत्तक माता-पिता का ऐसे सभी अधिकारों, विशेषाधिकारों और उत्तरदायित्वों सहित, जो किसी जैविक बालक से जुड़े हों,विधिपूर्ण बालक बन जाता है।

 

2. मुझे सड़क के किनारे एक बच्चा पड़ा हुआ मिला है; क्या मैं इस बच्चे को अपना सकता/सकती हूँ?

 

नहीं, आप इस बच्चे को सीधे ही नहीं अपना सकते हैं, क्योंकि बच्चे को बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के समक्ष पेश किया जाना होता है और किशोर न्याय अधिनियम के अनुसार कानूनी कार्यवाहियों के लिए स्थानीय पुलिस को सूचना भेजनी होती है।

 

3.कौन-कौन से न्यायालय दत्तकग्रहण आदेश जारी करने के लिए सक्षम हैं?

किशोर न्याय नियम (बालकों की देखरेख और संरक्षण) नियम 2007 के नियम 33(5) के अनुसार दत्तकग्रहण याचिकाओं का निपटारा करने के लिए जिला न्यायालय, परिवारिक न्यायालय तथा शहरी सिविलन्यायालय सक्षम न्यायालय है।

 

4. केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन प्राधिकरण (सीएआरए) की क्या भूमिका होती है??

केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन प्राधिकरण अधिसूचित दत्तकग्रहण निदेशों के अनुसार भारतीय बच्चों के दत्तकग्रहणको सुगम बनाने के लिए उत्तरदायी भारत सरकार का एक केंद्रीय पदनामित प्राधिकरण है।

 

5.दत्तकग्रहण प्रक्रिया में पणधारी कौन-कौन होते हैं?

(क) राज्य दत्तकग्रहण संसाधन अभिकरण (एसएआरए) राज्यदत्तकग्रहण संसाधन अभिकरण (एसएआरए) केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन प्राधिकरण के समन्वय से दत्तकग्रहण को प्रोत्साहित करनेएवं निगरानी करने तथा गैर-संस्थागत देखभाल करने के लिए राज्य के भीतर एक नोडल निकाय के रूप में कार्य करता है।

(ख) विशिष्ट दत्तकग्रहण एजेंसी (एसएए) विशिष्ट दत्तकग्रहण अभिकरण (एसएए) को दत्तकग्रहण में बच्चे रखने के उद्देश्य के लिए अधिनियम की धारा 41 की उप धारा(4) के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्रदान की गई है।

(ग) प्राधिकृत विदेशीदत्तकग्रहण अभिकरण (एएफएए) प्राधिकृत विदेशी दत्तकग्रहण अभिकरण को विदेशी सामाजिक बाल कल्याण अभिकरण के रूप में मान्यता दी जातीहै जो उस देश के नागरिक द्वारा भारतीय बच्चे के दत्तकग्रहण से संबंधित सभी मामलों के समन्वय के लिए संबंधित केंद्रीय प्राधिकरण या उस देश के सरकारी विभाग की सिफारिश पर केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन प्राधकरण द्वारा प्राधिकृत होती है।

(घ) जिला बालक संरक्षण एकक (डीसीपीयू) जिला बालक संरक्षण एकक से अधिनियम की धारा 61 ए के अधीन जिला स्तर पर राज्य सरकार द्वारा स्थापित एकक से अभिप्रेत है। यह एकक जिले में अनाथ, परित्यक्त और अभ्यर्पितबच्चों को चिन्हित करता है और उन्हें बाल कल्याण समिति द्वारा दत्तकग्रहण के लिएविधिक रूप से स्वतंत्र घोषित करवाता है।

 

6. बच्चे के दत्तकग्रहण के लिए कौन व्यक्ति पात्र होता है?

(क) भावी दत्तक माता-पिताको शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से स्थिर होना चाहिए, वित्तीय रूप से सक्षम होना चाहिए, बच्चे को अपनाने के लिए प्रोत्साहित होना चाहिए, बिना किसी जीवन संकट की चिकित्सकीय स्थिति के होना चाहिए।

(ख) कोई भी दत्तक माता-पिता, अपनी वैवाहिक स्थिति और उसका कोई जैविक पुत्र या पुत्री है या नहीं, का लिहाज किए बिना, बच्चे को अपना सकते हैं।

(ग) अविवाहित महिला किसी भी लिंग के बच्चे को अपनाने के लिए पात्र हैं।

(घ) अविवाहित पुरुष किसी लड़की को अपनाने के पात्र नहीं होंगे।

(ड.) दंपतियों के मामले में, दोनों अभिभावकों की स्वीकृति आवश्यक होगी।

(च) दंपति को दत्तकग्रहण के लिए कोई भी बच्चा तब तक नहीं दिया जाएगा जब तक उनका वैवाहिक जीवन कम से कम दो वर्षतक का न हो।

(छ) पंजीकरण की तारीख को भावी दत्तक माता-पिता की आयु की गणना पात्रता के निर्णय हेतु की जाएगी और विभिन्न आयु समूहों के बच्चों के लिए आवेदन करने के लिए भावी दत्तक माता-पिता की पात्रता निम्नवत होगी :

बालक की आयु

भावी दत्तक माता-पिता की अधिकतमसंयुक्त आयु

अविवाहित भावी दत्तक माता-पिताकी अधिकतम आयु

4 वर्ष तक

90 वर्ष

45 वर्ष

4 वर्ष से अधिक किंतु 8 वर्ष तक

100 वर्ष

50 वर्ष

8 वर्ष से अधिक किंतु 18 वर्ष तक

110 वर्ष

55 वर्ष

 

बच्चे तथा भावी दत्तक माता-पिता के बीच न्यूनतम आयु का अंतर 25 वर्ष से कम नहीं होना चाहिए। पात्रता की आयु भावी दत्तक मता-पिता के पंजीकरण की तारीख होगी।

4 बच्चों से अधिक वाले दंपतियों के दत्तकग्रहण आवेदन पर विचार नहीं किया जाएगा।

 

7. . क्या पंजीकरण के लिए पैन कार्ड होना अनिवार्य है?

जी हां, बच्चों के दत्तकग्रहण 2015 को शासित करने वाले दिशा-निर्देशों के अनुसार पंजीकरण के लिए पैन कार्ड अपलोड करना भावी दत्तक माता-पिता के लिए अनिवार्य है।

 

8. क्या कोई अविवाहित व्यक्ति बच्चे को गोद ले सकता है?

जी हां,बच्चों कादत्तकग्रहण 2015 को शासित करने वाले पैरा-5 के अनुसार अविवाहित व्यक्तिबच्चे को गोद लेने के लिए पात्र हैं। अविवाहित महिला लड़का या लड़की को गोद ले सकती है जबकि अविवाहित पुरुष केवल लड़के को ही गोद ले सकता है।

 

9. क्या बच्चे को गोद लेने के लिए कोई न्यूनतम आय संबंधी मानदंड है?

बच्चों का दत्तकग्रहण 2015को शामिल करने वाले दिशा-निर्देशों के अनुसार इस संबंधमें कोई विशेष मानदंड नहीं है। माता-पिता की उपयुक्तता का मूल्यांकन सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा की गई गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) की तैयारी के दौरान किया जाता है।

 

10. बच्चे को किस प्रकार अपनाया जाए?

कोई भी व्यक्ति वेबसाइट पर उपलब्ध ऑनलाइन आवेदन के प्रस्तुतीकरण के माध्यम से और बच्चों का दत्तकग्रहण 2015 को शामिल करने वाले दिशा-निर्देशों में दी गई प्रक्रियाओं का अनुपालन करते हुए ही किसी बच्चे को गोद ले सकता है। अतिरिक्त ब्यौरे के लिए कृपयावेबसाइट देखें। वेबसाइट

 

11. मैंने पूर्व में ऑनलाइन पंजीकरण कराया था; क्या मुझे दोबारा पंजीकरण कराना होगा या फिर पुराना पंजीकरण ही वैध होगा?

यदि आपने पूर्व में ऑनलाइन पंजीकरण करवाया है तो आपका पंजीकरण वैध होगा। कृपया केयरिंग में लॉग करके अपनी स्थिति की जांच करें। यदि आपका पंजीकरण सक्रिय है . तो आपको दोबारा पंजीकरण करवाने की कोई आवश्यकता नहीं है। .

 

12. मैंने वर्ष 2011 के दिशा-निर्देशों के अंतर्गत पंजीकरण करवाया है और मेरी गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) को मेरी एजेंसी द्वारा केयरिंग में अपलोड किया गया है। क्या मेंरी एजेंसी मुझे रेफरल भेजेगी?

यदि गृह अध्ययन रिपोर्ट को केयरिंग में अपलोड किया जाता है तो भावी दत्तक माता-पिता को ऑनलाइनपंजीकरण के दिन से वरिष्ठता के आधार पर ई-मेल/एसएमएस के माध्यम से बच्चे के रेफरल के बारे में सूचित कर दियाजाएगा। गोद लिया जाने वाला बच्चा राज्य के भीतर किसी भी दत्तकग्रहण अभिकरण से हो सकता है, वह अभिकरण जहां आपका आवेदन प्रतीक्षा में है, को वर्ष 2015 के दिशा-निर्देशों के पैरा 10 के अनुसार गोद लिए जाने वाले बच्चे के प्रस्ताव को सीधे ही भेजने की अनुमति नहीं है।

 

13. यदि मुझे कंप्यूटर की जानकारी नहीं है तो मैं केयरिंग पर ऑनलाइन पंजीकरण किस प्रकार करवा सकता हूँ?

किसी भी बच्चे को गोद लेने के लिए केयरिंगपर ऑनलाइन पंजीकरण करवाना अब अनिवार्य हो गया है। आप वर्ष 2015के दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशों के पैरा 9(।।) के अनुसार अपना ऑनलाइन आवेदन पंजीकृत करवाने के लिए अपने जिले के जिला बालक संरक्षण अधिकारी (डीसीपीओ) से संपर्क कर सकते हैं।

 

14. मैंने अपना ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म प्रस्तुत कर दिया है, अब इससे अगलाकदम क्या है?

आपको केयरिंग पर लॉग-इन करके अपने दस्तावेज अपलोड करने हैं। यूजर आईडी और पासवर्ड आपकी ऑनलाइन रसीद पर उल्लिखित है। माता-पिता टैब पर जाएं और केयरिंग पर लॉगइन करने के लिए ऑलरेडी रजिस्टर पैरंट्स के विकल्प पर क्लिक करें।

 

15. दस्तावेज अपलोड करने के लिए अधिकतम कितने समयावधि की अनुमति दी जाती है?

आपको ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्मके सफलतापूर्वक प्रस्तुतीकरण के 30 दिन के भीतर दस्तावेज अपलोडकरने हैं अन्यथा आपका पंजीकरण रद्द हो जाएगा।

 

16. क्या ऑनलाइन पंजीकरण के लिए कोई पंजीकरण शुल्क है?

ऑनलाइन पंजीकरण के लिए पंजीकरण शुल्क का कोई प्रावधान नहीं है।

 

17. मैंने दस्तावेज अपलोड कर दिए हैं कृपया बताएं कि अब अगला कदम क्या है?

आपको गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) करवाने के लिए संबंधितविशिष्ट दत्तकग्रहण अभिकरण से संपर्ककरना है।

 

18. मैंने पंजीकरण के दौरान अपने नाम से वर्तनी संबंधी अशुद्धि की है। मैं इस अशुद्धि को किस प्रकार ठीक करवा सकता हूँ?

केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन अभिकरण की तकनीकी टीम इस प्रकार के प्रश्नों का निपटारा करती है इसलिए आप टॉल फ्री संख्या 180011131 या मेल (लिंक सेंड ई-मेल) पर संपर्क कर सकते हैं। ई-मेल

 

19. यदि मेरी गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) अनुबंधित समय के भीतर नहीं तैयार की जाती है तो मुझे किससे संपर्क करना चाहिए?

आप आपने राज्य के राज्य दत्तकग्रहण संसाधन अभिकरण (सारा) या अपने जिले के जिला बालक संरक्षण एकक (डीसीपीयू) से संपर्क कर सकते हैं। सारा और डीसीपीयू के ब्यौरे की जांच करने के लिए, कृपया कारा की बेवसाइट देखें।

 

20.क्या गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) के लिए कोई शुल्क है? यदि हां तो यह शुल्क किसे दिया जाना चाहिए?

गृह अध्ययन रिपोर्ट का शुल्क 6000 रुपये है और इसके भुगतान का तरीका 2015 के दिशा-निर्देशों की अनुसूची 13 में दिया गया है।

 

21. मैं गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) के लिए एजेंसी को बदलना चाहता हूँ, मैं ऐसा किस प्रकार कर सकता हूँ?

यदि स्वीकार्यता एजेंसी द्वारा की गई है तो आप इसे केयरिंग पर लॉगइन करके परिवर्तित कर सकते हैं अन्यथा यह केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन अभिकरण द्वारा किया जाएगा (टॉल फ्री संख्या 180011131 पर संपर्क करें या मेल लिंक सेंड ई-मेल) ई-मेल )

 

22.क्या मैं अपनी गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) देख सकता हूँ?

जी हां, आपकी गृह अध्ययन रिपोर्ट के बारे में दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशों के पैरा 9(5) के अनुसार, यथास्थिति, एसएए/डीसीपीयू/सारा द्वारा सूचित कर दिया जाएगा।

 

23. क्या इस प्रकार की कोई संभावना है कि राज्य दत्तकग्रहण अभिकरण हमारे आवेदन को अस्वीकृत कर सकता है/हमें बच्चा गोद लिए जाने के लिए अनुपयुक्त घोषित कर सकता है?

जी हां, राज्य दत्तकग्रहण अभिकरण गृह अध्ययन रिपोर्ट (एसएसआर)के पूरा होने के पश्चात भावी दत्तक माता-पिता को बच्चा गोद लेने के लिए अपात्र/अनुपयुक्त घोषित कर सकता है।

 

24.यदि गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) को अस्वीकृत कर दिया जाता है तो मुझे कहां अपील करनी चाहिए?

व्यक्ति दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशों के पैरा 9(9) के अनुसार राज्य दत्तकग्रहण अभिकरणद्वारा गृह अध्ययन रिपोर्ट को अस्वीकृत करने के विरुद्ध केंद्रीय दत्तकग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा) में अपील कर सकता है।

 

25. मेरी गृह अध्ययन रिपोर्ट (एचएसआर) को अनुमोदन प्रदान कर दिया गया है और केयरिंग पर अपलोड कर दिया गया है। मुझे अपनी वरिष्ठता किस प्रकार पता चलेगी?

भावी दत्तक माता-पिता अपनी वरिष्ठता को बदल नहीं सकते हैं। वे केवल दत्तकग्रहणकेलिए बच्चे की अपनी प्राथमिकता को ही बदल सकते हैं।

 

26. मैं पंजीकरण के पश्चात बच्चे की आयु संबंधी प्राथमिकता को किस प्रकार बदल सकता हूँ?

जी हां, माता-पिता केयरिंग पर लॉगइन करके आयु संबंधी प्राथमिकता को बदल सकते हैं।

 

27. मैं दत्तकग्रहण के लिए राज्य की प्राथमिकता को बदलना चाहता हूँ, मैं ऐसा किस प्रकार कर सकता हूँ?

अपने यूजर आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके केयरिंग पर लॉगइन करें और चेंजस्टेटप्रिफरेंशफॉरअडॉपशन पर क्लिक करें।

 

28. मैं बच्चे के प्रस्ताव को किस प्रकार प्राप्त कर सकता हूँ?

वरिष्ठता के आधार पर, भावी दत्तक माता-पिता को 6 बच्चों तक की फोटो एवं प्रोफाइल देखने का अवसर दिया जाएगा। बच्चे के प्रस्ताव से संबंधित सूचना ऑनलाइनपंजीकरण फॉर्म में दी गई मोबाइल संख्या में ई-मेल और एसएमएस के माध्यम से दी जाएगी।

 

29.मैंने बच्चों के प्रोफाइल को देखने के लिए ई-मेल और एसएमएस प्राप्त किए हैं किंतु मैं केयरिंग में लॉगइन करने में सक्षम नहीं हूँ, मुझे क्या करना चाहिए?

आप फॉरगेट पासवर्ड लिंक पर क्लिक करके अपने पासवर्ड का पुन: पता लगाकर खोल सकते हैं, जो कि पैरेंट्स लॉगइन के पृष्ठ पर उपलब्ध है।

 

30. मैं अपना पासवर्ड भूल गया हूँ, मैं पासवर्ड का पता किस प्रकार दोबारा लगा सकता हूँ?

आप फॉरगेट पासवर्ड पर क्लिक करके अपने पासवर्ड का पता दोबारा लगा सकते हैं। क्लिक करके.

 

31. मैं आरक्षित बच्चे के बारे में और अधिक जानने के लिए वेबसाइट में दिए गए टेलीफोन नंबर पर दत्तकग्रहण अभिकरण से संपर्क करने के सक्षम नहीं हूँ? मुझे क्या करना चाहिए?

आप राज्य के राज्य दत्तकग्रहण संसाधन अभिकरण या जिले के जिला बालक संरक्षण एकक जहां अभिकरण स्थित है पर संपर्क कर सकते हैं या टॉल फ्री संख्या 180011131पर संपर्क कर सकते हैं या (लिंक सेंड्स ई-मेल) पर मेल कर सकते हैं।मेलमेल.

 

32.भावीमाता-पिता द्वारा वहन किए जाने वाले दत्तकग्रहण व्यय कौन-कौन से हैं?

भावी दत्तक माता-पिता को दिशा-निर्देशों की अनुसूची 13(1) में वर्णितप्रावधान के अनुसार खर्चा वहन करना होता है। भावी दत्तक माता-पिता को सख्ती से यह सलाह दी जाती है कि वे दिशा-निर्देशों में निर्धारित राशि से अधिक राशिका भुगतान न करें।

 

33. मैंने बच्चे को गोद लेने के लिए अपनी स्वीकृति दे दी है। कृपया बताएं कि दत्तकग्रहण के लिए न्यायालय का आदेश प्राप्त करने में कितना समय लगता है?

दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशों के पैरा 12(4) के अनुसार न्यायालय को विशिष्ट दत्तकग्रहण अभिकरण द्वारा दत्तकग्रहण याचिका दाखिल किए जाने की तारीख से दो माह की अवधि के भीतर मामले का निपटारा करना होता है।

 

34. मैं एक अनिवासी भारतीय हूँ और भारत से बच्चे को गोद लेना चाहता हूँ; क्या मैं किसी निवासी भारतीयकी तरह ऑनलाइन के माध्यम से पंजीकरण करवा सकता हूँ?

कोई भी अनिवासी भारतीय वर्ष 2015 के दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशों के पैरा 16 में दी गई निम्नलिखित प्रक्रिया को अपनाते हुए अपने वर्तमान निवास के देश से संबंधित प्राधिकारियों के माध्यम से पंजीकरण करवासकता है। .

 

35.मैं भारत में रहने वाला विदेशी भारतीय नागरिक/विदेशी हूँ, मैं ऑनलाइन पंजीकरण कैसे कर सकता हूं?

भारत में रहने वाला कोई भी विदेशी भारतीय नागरिक/विदेशी नागरिक अपनी राष्ट्रीयता वाले देश के दूतावास से भारतीय बच्चे के प्रस्तावित दत्तकग्रहण के लिए अनापत्ति पत्र प्राप्त करने के पश्चात ऑनलाइन केयरिंग के माध्यम से स्वयं को पंजीकृत करवा सकता है और दत्तकग्रहण प्रक्रिया के पैरा 21 में दी गई प्रक्रिया का पालन कर सकता है।

 

36. मैं एक प्रवासी भारतीय हूँ, क्या मुझे भी निवासी भारतीय व्यक्ति के समान ही प्राथमिकता दी जाएगी?

प्रवासी भारतीय दत्तक माता-पिता को भारतीय अनाथ, परित्यक्त और अभ्यर्पित बच्चों के दत्तकग्रहण के लिए प्राथमिकता के संबंध में भारत में रहने वाले भारतीयों के बराबर ही माना जाएगा। किंतु प्रक्रिया दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशके पैरा16 के अनुसार होगी।

 

37. मैं एक प्रवासी भारतीय हूँ और भारत से अपने किसी नातेदार के बच्चे को गोद लेना चाहता हूँ जिसके माता-पिता का देहांत हो चुका है?

विदेशों में रहने वाले नातेदारों द्वारा बच्चों के दत्तकग्रहण को विदेशों में रहने वाले भारतीयों के पारिवारिक दत्तकग्रहण के लिए दिशा-निर्देशों के अंतर्गत नियंत्रित किया जाता है। आप www.cara.nic.inपर उपलब्ध उक्त पारिवारिक दत्तकग्रहण दिशा-निर्देशों की प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं।

 

38.क्या मुस्लिम या ईसाई किसी बच्चे को गोद ले सकते हैं?

जी हां, किशोर न्याय अधिनियम के अंतर्गत किसी भी धर्म का व्यक्ति बच्चे को गोद ले सकता है।