बच्‍चे को कौन अपना सकता है?
  • pm

    "हम सभी की जरूरत है हमारे दिमाग को बदलना है हमें लोगों के दिल को एकजुट करने की आवश्यकता है। "

  • blue

    क्या तुम्हें पता था? दहेज निषेध अधिनियम, 1 9 61 के तहत दहेज देने, लेने, मांगने या विज्ञापन भी सभी अवैध हैं

संशोधित दत्‍तकग्रहण विनियम 2017 के अनुसार, निम्‍नलिखित व्‍यक्‍ति बच्‍चे को गोद ले सकते हैं :-

  • भारतीय नागरिक
  • प्रवासी भारतीय
  • विदेशी नागरिक भी बच्‍चे को गोद ले सकते हैं। भावीदत्‍तक माता-पिता के प्रत्‍येकवर्ग के लिए विशेष दिशा-निर्देश और दस्‍तावेज हैं।
  • अविवाहित पुरुष लड़की को नहीं अपना सकता है।
  • यदि कोई दंपति बच्‍चे को गोद ले रहा है तो उनका दो साल का स्‍थिर वैवाहिक जीवन होना चाहिए और बच्‍चे को अपनाने के लिए दोनों की सहमति होनी भी आवश्‍यक है।
  • व्‍यक्‍ति चिकित्‍सकीय रूप से स्‍वस्‍थ होना चाहिए और बच्‍चे की देखभाल के लिए वित्‍तीय रूप से सक्षम होना चाहिए।
  • 4 वर्ष तक की आयु के बच्‍चे को गोद लेने के लिए, दत्‍तक माता-पिता की अधिकतम संयुक्‍त आयु 90 वर्ष होनी चाहिए जिसमें व्‍यक्‍ति की अधिकतम आयु 45 वर्ष होनी चाहिए।
  • 4 वर्ष की आयु से अधिक तथा 8 वर्ष की आयु के बच्‍चे को अपनाने के लिए, तत्‍कालीन दत्‍तक माता-पिता की अधिकतम संयुक्‍त आयु 100 वर्ष होनी चाहिए। 8 वर्ष से अधिक तथा 18 वर्ष तक की आयु के बच्‍चों को अपनाने के लिए दत्‍तक माता-पिता की अधिकतम संयुक्‍त आयु 110 वर्ष होनी चाहिए जिससे व्‍यक्‍ति की अधिकतम आयु 55 वर्ष होनी चाहिए।
  • गोद लिए जाने वाले बच्‍चे तथा किसी भी भावीदत्‍तक माता-पिता के बीच न्‍यूनतम आयु अंतर 25 वर्ष से कम नहीं होना चाहिए।
  • दत्‍तक माता-पिता के लिए आयु संबंधी मानदंड नातेदार के दत्‍तकग्रहण और सौतेले माता-पिता द्वारा दत्‍तकग्रहण के मामले में लागू नहीं होंगे।
    तीन या अधिक के बच्‍चों वाले दंपतियों के आवेदन पर विशेष आवश्‍यकताओं वाले बच्‍चों के मामले को छोड़करदत्‍तकग्रहण के लिए विचारनहीं किया जाएगा।