एमएसके के बारे में

भारत सरकार ने सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने और ऐसा माहौल उत्‍पन्‍न करने जिसमें वे अपने सामर्थ्‍य को पहचान सकें, 2017-18 से 2019-20 के दौरान क्रियान्‍वयन हेतु महिला शक्ति केंद्र नामक नई उप-स्‍कीम का अनुमोदन किया है। यह ग्रामीण महिलाओं को अपनी हकदारियों की प्राप्ति के लिए सरकार तक अपनी पहुंच बनाने के लिए एक अंतरापृष्‍ठ(इन्‍टरफेस) प्रदान करेगा साथ ही प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण के माध्‍यम से उनको सशक्‍त करेगा ।

 

2.एमएसके के सबसे पिछड़े हुए 115 जिलों में ब्लॉक स्तरीय पहल के हिस्से के रुप में , कॉलेज के विद्यार्थी वालंटियरों के माध्यम से सामुदायिक भागीदारी की परिकल्पना की गई है। ये विद्यार्थी वालंटियर सरकार की विभिन्‍न महत्‍वपूर्ण स्‍कीमों /कार्यक्रमों तथा सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरुकता फैलाने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएंगे और एनएसएस/एनसीसी कॉडर के छात्रों के साथ संपर्क स्‍थापित करना भी एक विकल्‍प होगा। ब्‍लॉक स्‍तर पर इस स्‍कीम से विद्यार्थी वालंटियरों को अपने ही समुदायों में परिवर्तन लाते हुए और यह सुनिश्चित करते हुए कि महिलाएं पिछड़ न जाएं और वे भारत की प्रगति में बराबर की भागीदार हों, विकास प्रक्रिया में भाग लेने का अवसर प्राप्‍त होगा ।

 

प्रथम वर्ष(2017-18) में पिछड़े हुए 115 जिलों में से 50 जिलों में महिला शक्ति केंद्र (एमएसके) स्‍थापित किए जाएंगे जिसमें ब्‍लॉक स्‍तरीय प्रयास या पहल के तहत पिछड़े हुए 50 जिलों के 400 ब्‍लॉक (प्रति जिला अधिकतम 8 ब्‍लॉक) शामिल किए जाएंगे।

 

4.द्वितीय वर्ष (2018 - 19) में पिछले वर्ष के 50 जिलों के साथ साथ शेष 65 जिलों को भी शामिल किया जाएगा । तीसरे वर्ष पिछड़े हुए 115 जिलों के 920 ब्‍लॅाकों(प्रति जिला 8 ब्‍लॉक) को शामिल करते हुए उनमें 6 माह की अवधि के लिए गतिविधियां की जाएंगी। दूसरे वर्ष के अंत में स्‍कीम का मूल्‍यांकन किया जाएगा ताकि स्‍कीम को जारी रखने/स्‍कीम के प्रसार के बारे में निर्णय लिया जा सके ।

 

5.महिलाओं के लिए जिला स्‍तरीय नए केंद्रों (डीएलसीडब्‍ल्‍यू) हेतु 640 जिलों को चरणबद्ध तरीके से शामिल करने की संकल्‍पना की गई है। ये केंद्र गांव, ब्‍लॉक और राज्‍य स्‍तर पर महिला केंद्रित स्‍कीमों को सुविधाएं उपलब्‍ध कराने तथा जिला स्‍तर पर बीबीबीपी स्‍कीम के लिए आधार प्रदान करने के लिए गांव, ब्‍लॉक, और राज्‍य स्‍तर पर एक संपर्क का कार्य करेंगे । वर्तमान वित्‍तीय वर्ष(2017-18) के दौरान, 220 डीएलसीडब्‍ल्‍यू स्‍थापित किए जाएंगे जिनमें उपायुक्‍त/जिला मजिस्‍ट्रेट के मार्गदर्शन में प्रत्‍येक चुनिंदा जिले में 03 कर्मचारी कार्यरत होंगे ।

 

6.महिलाओं से संबंधित मामलों पर राज्‍य स्‍तर पर संबंधित राज्‍य सरकार/संघ राज्‍य क्षेत्र के प्रशासनों के तहत कार्यरत राज्‍य महिला संसाधन केंद्र (एसआरसीडब्‍ल्‍यू) के माध्‍यम से तकनीकी सहायता प्रदान की जा रही है । महिला शक्ति केंद्र स्‍कीम के जिला और ब्‍लॉक स्‍तर के घटकों सहित सरकार की सभी महिला केंद्रित स्‍कीमों और कार्यक्रमों के कार्यान्‍वयन में राज्‍य महिला संसाधन केंद्र (एसआरसीडब्‍ल्‍यू) , सहायता प्रदान करेंगे है।

 

विवरण के लिए कृपया एमएसके स्‍कीम के दिशानिर्देश देखें ।